2 week pregnancy symptoms | 10 Pregnancy symptoms In Hindi

हरेक महिला और उसकी हेल्थ, सोच, समझ और सहनशीलता अलग – अलग होती हैं। जब अलग – अलग महिला एक साथ प्रेग्नेन्ट होती है, तो ये जरुरी नहीं होता की सबको एक जैसे परेशानी से गुजरना पड़े। और सभी को एक जैसे फ़िलिंग आये। आज हम आपको बताने जा रहे है 2 week pregnancy symptoms के बारे में.

जहा कुछ महिला प्रेगनेंसी शुरू होने के बाद 1 महीने तक जब तक उनके पेरियडस ना आ जाये, प्रेगनेंसी को फील ही नहीं कर पाती है,तो ऐसा भी हो सकता है की किसी महिला को फील प्रेग्नेंट होने की पहले हफ्ते ही जो जाती है। किसी महिला की प्रेग्नेन्सी जानकारी उसे तब तक नहीं लग पाती है, जब तक उनके पेरियडस मिस नहीं हो जाते है।

जिन महिलाओ को पेरियडस खत्म होने के फ़ौरन बाद प्रेग्नेन्सी हो जाती है। उनके लिए प्रेग्नेसी को पहचानना और भी मुश्किल हो जाता है। और उनके अगले पेरियडस आने में बहुत दिन बचे होते है। ऐसे में क्यूंकि प्रेगनेंसी की जानकारी अगले पेरियडस मिस होने के बाद ही पता चल पाती है। लेकिन जिन महिलाओ को पेरियडस के डेट्स के बाद प्रेगनेंसी हो जाती है, वो प्रेग्नेन्सी का अंदाजा पहले या दूसे हफ्ते में लगा सकती है, क्योकि उनके पेरियडस मिस हो जाते है।

10 लक्षण और पहचान जिन्हे देखकर प्रेगनेंसी 1 या 2 हफ्ते में पता लगा सकते है।

प्रेग्नेन्सी के शुरुआती 10 लक्षण

प्रेगनेंसी के सूरत के साथ साथ महिला के शरीर में अंदरूनी तोर पर बहुत से बदलाव आने लग जाते है। इन बदलाव को महिला बेहद बारीकी से गौर करे तो वो नोटिस कर सकती है। लेकिन ज्यादातर महिला को खास तोर पर प्रेग्नेन्सी के बारे में सोच ही नहीं रही हो तो पहले या दूसरे हफ्ते में पहचानना बहुत मुश्किल होते है।

1 या 2 हफ्ते में प्रेगनेंसी केवल मेडिकल टेस्ट के द्वारा ही पता लगाई जा सकती है। हालांकि किसी महिला की प्रेगनेंसी के बाद जो लक्षण नजर आते है। अगर महिला खुद में हो रहे इन बदलाव इन लक्षणों पर गौर करे तो अपनी प्रेगनेंसी का पता लगा सकती है, तो ऐसे ही 2 week pregnancy symptoms के 10 लक्षण आपके सामने है।

Related post
1. जल्दी प्रेग्नेंट होने का आसान तरीका
2. गर्भावस्ता में थाइरोइड का कारण जानीये
3. गर्भावस्ता के 12 लक्षण हिंदी में
4. 25 tips to increase sperm count
5. how to get pregnancy fast
6. अगर आप pregnant हे तो इन बातो का रखे ख़ास ख्याल
7. Pregnancy tips Hindi (अगर प्रेगनेंट हो तो इन बातो का रखे ख़याल )
8. pregnancy के 1 से 9 महीने में बच्चा कैसे बनता है
9. 10 amazing Benefits Of Coconut Water During Pregnancy
10. घर पर नमक से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करे
11. 16 Symptoms for Baby Boy During Pregnancy (Myths vs Facts in Hindi )
12. Best sex position to get pregnant fast

1. ज्यादा सवेदनशील हो जाना

कंसीव करने के बाद अक्सर महिलाये बहुत ज्यादा सवेदनशील हो जाती है, छोटी छोटी चीजों को बहुत ज्यादा फील करने लगती है।

2. जी मचलाना और उल्टी होना

प्रेगनेंसी की शुरुआत होते ही महिला के लिए जी मचलना और उल्टी होना बहुत ही आम हो जाता है। लेकिन उल्टी किसी को भी हो सकती है। प्रेगनेंसी में उल्टी को इस चीज से अलग किया जा सकता है,की महिला को हर वो चीज जिस से किसी भी तरह की खुशबू आती हो, उसके प्रति बहुत सवेदनशील हो जाती है। और किसी चीज की खुशबू पसंद ना आये तो उल्टी की प्रॉब्लम बहुत ज्यादा हो जाता है। वो चीजे जिन से ज्यादा परेशानी पहले नहीं होती थी वही चीजे होने लग जाती है।

3. मिजाज का बदल जाना

प्रेगनेंसी के समय महिला के सिर में बहुत दर्द होने शुरू होते है, और उन्हें किसी भी तरह से महसूस जरूर करती है ऐसे में वो ये नहीं समझ पाती है की ये क्या हो रहा है? और तकलीफ ज्यादा भी नहीं होती है, जिससे डॉक्टर के पास जाए यही बेचैनी उसके मन को प्रभावित करती है।

4. गैस का बनाना

गैस बनना एक बहुत ही आम प्रॉब्लम है। लेकिन प्रेगनेंसी में ये थोड़ी ज्यादा हो जाती है। आम दिनों में अगर आपने सही मात्रा में सही आहार लिया है, आपने कोई गलती नहीं की है,तो इस प्रोब्लम से बच सकती है। लेकिन प्रेग्नेन्सी में गैस की समस्या थोड़ी और बढ़ जाती है। आप बिना किसी कारण के भी गैस बनने की शिकायत कर सकती है। इसका कारण प्रोजिस्ट्रोन हार्मोन होता है। जो कि महिला के शरीर में प्रेग्नेन्सी के बाद बनना शुरू होता है, और जिससे गैस बनता है।

5. कब्ज की शिकायत होना

प्रेगनेंसी के दौरान कब्ज को पहचाना थोड़ा मुश्किल होता है। लेकिन वो महिलाये जिन्हे कब्ज की प्रॉब्लम नहीं होती है। प्रेगनेंसी में उन्हें कब्ज की प्रॉब्लम हो सकती है। इसका कारण हारमोन का बदलाव होता है। जिससे ये प्रॉब्लम आती है। ये जो हार्मोन है महिला की शरीर के सभी मास्पेसियो को बढ़ने नहीं देता है और पेट में खाने का प्रोसेस को भी धीमा कर देता है। जिससे महिला को गैस कब्ज जैसे प्रॉब्लम होने लगती है।

6. ब्रैस्ट में दर्द होना

प्रेगनेंसी के दौरान ये आम लक्षण होता है। ज्यादतर महिला तो इस तरह की प्रॉब्लम नहीं होती है, और अगर किसी महिला के पेरियड़ मिस हो गए है,और उसे ये प्रोबलम हो रही है तो उसके प्रेग्नेंट होने की संभावना बहुत बढ़ जाते है।

7. थकान का होना

प्रेगनेंसी के शुरुआती दौर में थकान भी होने लगती है। दरसल इसका कारण आपके गर्भ में भूर्ण बनने की शुरुआत होता है। इस दौरान आपका शरीर आपके भूर्ण पर बहुत ज्यादा ध्यान देना लगता है, और आपके शरीर को और ज्यादा ब्लड बनाने की जरूरत पड़ती है। यही ब्लड बेबी को पोशक तत्व पंहुचाता है। और इसीसलिए आपके थकावट महसूस होने लगती है। वही इसका एक और कारण है, हार्मोन का बदलाव होने शरीर में हार्मोन के बढ़ने से महिला को नींद ज्यादा आने लगती है।

8. भूख में बदलाव का होना

इस दौरान महिलाओ की भूख बहुत ज्यादा बढ़ जाती है। और पहले के मुकाबले में ज्यादा चटपटी चीजे खाने का मन करता है। ये भी प्रेग्नेंट होने का लक्षण है।

9. पेशाब का ज्यादा आना

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाये पहले के मुकाबले ज्यादा बाथरूम जान शुरू कर देती है। और उनको पेशाब ज्यादा आने लग जाता है। इस अवस्ता में उन्हें नारियल पानी पीना चाहिए ताकि उनको डिहाइड्रेशन की समस्या न हो।

10. बीमारों के जैसा महसूस होना

प्रेग्नन्सी के दौरान महिलाओ को बेहद अलग सा और बिमारी के जैसा महसूस होना शुरू हो जाता है। यहाँ तक की उन्हें कुछ भी समज में नहीं आता है की उनके साथ ऐसा क्यों हो रहा है। सिर दर्द होना एवं आलस सा शरीर में रहना ये भी प्रेगनेंसी के लक्षण हो सकते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *