pregnancy in 2 months ( लक्षण, विकास और शारीरिक बदलाव ) strollersindia

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट में हम आज आपको pregnancy in 2 months, लक्षण, बच्चे का विकास और इस दौरान होने वाले शारीरिक बदलाव के बारे बताएँगे।

1. गर्भावस्ता के दूसरे महीने में शरीर में हार्मोन बदलने लगते है। हालांकि इस महीने के कुछ लक्षण पहले महीने जैसे होते है। लेकिन इसी के साथ कुछ नए लक्षणा नजर आते है ये कुछ इस प्रकार से है।

2. ब्रा का टाइट होना आपकी ब्रा इस समय टाइट होने लग जाती है। क्योकि यह एस्ट्रोजिन और प्रोजिस्ट्रोन हार्मोन बनने की वजह से हो रहा है इस हार्मोन के कारण ब्रा का साइज बढ़ने लग जाता है। हार्मोन में बदलाव के कारण ऐसा होने लग जाता है।

3. इस समय सवभाव चिड़चिड़ा हो जाता है, मॉर्निंग सिकनेस हो सकती है, जी मचलाना, उल्टी आना और आपको किसी भी प्रकार की स्मैल आना, ऐसा या अहसास होने लगता है।

प्रेग्नेन्सी के दूसरे महीने में शरीर में होने वाले बदलाव होना pregnancy in 2 months

1. इस महीने में आपका गर्भ संतरे के आकर का हो जाता है।आपको बार – बार पेशाब आने की समस्या हो सकती है। ऐसा गर्भास्य के फैलने के कारण होता है। थोड़ी – थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाने का मन करता है।

2. आपके योनि में दर्द, खुजली और रक्त आ सकता है। शारीरिक बदलाव होने के कारण सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। आपका वजन पहले से बढ़ जाता है। इस दौरान कई चीजों की गंध पसंद नहीं आती है। किस महिला को कोनसी गंध परेशान करती है, वह महिला अपने आप पता लगा सकती है। क्योकि हर गर्भवती महिला को गंध अलग – अलग महसूस होता है।

3. सीने में जलन होना का मतलब यह है की गर्भावस्ता के 2 महीने में बच्चे का विकास हो रहा होता है।

4. गर्भावस्ता के दौरान बच्चे के विकास के बारे में जानना बेहद सुखद अनुभव है। हर माँ अपने होने वाले बच्चे के विकास को महसूस करती है, और समझती है।

5. गर्भावस्ता के दूसरे महीने में बच्चे का विकास कैसे होता है। और उसका आकर कितना होता है।

6. दूसरे महीने में भूर्ण का आकर करीब 1 इंच का होता है। और उसका वजन 14 ग्राम तक हो सकता है। इस महीने तक भूर्ण का दिल काम करना शुरू कर देता है और दिमाग भी विकसित होने लगता है। आँख, नाक, होठ, लिवर बनने शुरू हो जाते है। इसके अलावा दांत बनने की प्रक्रिया भी शुरू हो जाती है।

गर्भवती महिला के दूसरे महीने में कैसे देखभाल करनी चाहिए pregnancy in 2 months

गर्भावस्ता में महिला के लिए ये नाजुक दौर है। इस दौरान गर्भवती महिला को बहुत ज्यादा ध्यान रखना होता है, ताकि वे सवस्थ बच्चे को जन्म दे सके।

1. फोलिक एसिड से भरपूर फ़ूड यानी विटामिन युक्त भोजन जो की गर्भावस्ता के शुरुआती चरण में लेना जरुरी है। इससे बच्चे का दिमागी विकास होता है। इसके लिए आप पालक, हरी सब्जी, नट्स, बीन्स, चिकन, मटन और साबुत अनाज का सेवन कर सकती है और डॉक्टर से जरुरी सलाह लेकर उसका पालन करना चहिये।

2. गर्भावस्ता में आयरन की कमी से अनीमिया की शिकायत हो सकती है। इसके लिए आप सेव, पालक, हरी पत्तेदार सब्जी खा सकती है। गर्भावस्ता में आयरन युक्त भोजन ही काफी नहीं है। इसके साथ आपको फ़ूड सप्लीमेंट्स का सहारा भी लेना चहिये।

3. आपको केल्सियम की जरूरत 2 महीने में पड़ सकती है। इस दौरान सिसु की हड्डी सख्त हो सकती है। इस अवस्था में आप दूध, दही, पनीर का सेवन कर सकती है।

4. प्रोटीन युक्त भोजन इस दौरान आपको प्रोटीन युक्त भोजन लेना बहुत जरुरी है। जैसे अंडे, मटन, चीज़ आदि में प्रोटीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है इस दौरान आपको प्रोटीन युक्त आहार जरूर लेना चाहिए।

गर्भावस्ता के 2 महीने में क्या नहीं खाना चाहिए pregnancy in 2 months

1.इस समय आपको कच्चा मॉस नहीं खाना चाहिए। इस दौरान कच्चा मॉस खाने से बच्चे में इनफेस्क्शन हो सकता है कच्चा मास में मलिस्टेरियल नामक बैक्टीरिया होता है। जो बच्चे के विकास में बाधा पैदा कर सकता है। सॉफ्ट चीजे आपको इस महीने में नहीं खाना चाहिये। सॉफ्ट चीजे खाने से बच्चे और माँ दोनों को नुक्सान हो सकता है।

2. शराब और तम्बाकू – इस दौरान शराब और तम्बाकू का सेवन करना माँ और बच्चे दोनों के लिए नुकसादायक हो सकता है।

3. कच्चे अंडा ना खाये – कच्चा अंडा खाने से साल्मोनेला नामक संक्रमण का खतरा हो सकता है। इस संक्रमण से गर्भवती महिला को उल्टी और दस्त लग सकते है।

4. फिश – इस दौरान मछली खाने से बचना चाहिए। मछली में मर्चुरी की मात्रा ज्यादा होता है। इनसे भूर्ण के विकास में बाधा आती सकती है।

5. कच्चा दूध – गर्भावस्ता के दौरान कच्चा दूध नहीं पीना चाहिए। क्योकि कच्चे दूध में लिस्टेरियन नामक बैक्ट्रिया होता है जिससे गर्भपात और समय पूर्व प्रसव होने का खतरा बढ़ सकता है।

Related post:- 1. जल्दी प्रेग्नेंट होने का आसान तरीका
2. गर्भावस्ता में थाइरोइड का कारण जानीये
3. गर्भावस्ता के 12 लक्षण हिंदी में
4. 25 tips to increase sperm count
5. how to get pregnancy fast
6. अगर आप pregnant हे तो इन बातो का रखे ख़ास ख्याल
7. Pregnancy tips Hindi (अगर प्रेगनेंट हो तो इन बातो का रखे ख़याल )
8. pregnancy के 1 से 9 महीने में बच्चा कैसे बनता है pregnancy week by week
9. 10 amazing Benefits Of Coconut Water During Pregnancy
10. घर पर नमक से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करे
11. 16 Symptoms for Baby Boy During Pregnancy (Myths vs Facts in Hindi )
12. Best sex position to get pregnant fast
13. प्रेग्नेन्सी के शुरुआती 10 लक्षण 1 or 2 weeks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *