Why bleeding during pregnancy - नौ महीने की प्रेगनेंसी में ब्लीडिंग क्यों होती है?

स्वागत है, आपका हमारे इस ब्लॉग में। आप ही लोगो में से किसी ने पूछा था इस टॉपिक के बारे बताये, तो आज में आपके लिए Why bleeding during pregnancy क्यों होती है इसी बारे में बात करने वाला हूँ। और इसके बारे में हम विस्तार से बात करेंगे। pregnancy में ब्लीडिंग होने के बहुत सारे कारण है। जिस महिला को ब्लीडिंग होती है, वो बहुत परेशान हो जाती है। तो उनके लिए ये ब्लॉग लिखा गया है।

अब हम pregnancy को 3 भागो में बाँट लेते है।
1st trimester यानी की प्रेगनेंसी का 1 से 3 महीना
2nd trimester यानी की प्रेगनेंसी का 4 से 6 महीना
3rd trimester यानी की प्रेगनेंसी का 7 से 9 महीना

शुरू के तीन महीने को कहते है, पहली ट्रिमस्टर यानी की पहली तिमाही में ब्लीडिंग होती है। और इसके बहुत सारे कारण होते है।

1.इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग Why bleeding during pregnancy

इस ब्लीडिंग में जब बच्चा फेलोपिन टूब यानी की यूट्रेस की टूब में होता है। उसको फ़ेलोपेन टूब कहते है। जब बच्चा फ़ेलोपेन टूब से सरक कर बच्चेदानी में आता है, तो अपना रास्ता बनाता है। बच्चेदानी के दीवार में जाने के लिए जब बच्चा उस दीवार में जाता है, तो उसे इम्प्लांटेसन कहते है। उस समय ब्लीडिंग होती है। उस समय कुछ नाल फट जाती है, और हल्की सी ब्लीडिंग होती है।

2. फ़िब्रोडीज़ यानी की बच्चेदानी में गाँठ Why bleeding during pregnancy

अगर बच्चेदानी में गाँठ है तो ब्लीडिंग हो सकती है। और यह आपको संकेत करता है, की आपका बच्चा आपके सही जगह नहीं है, या बच्चेदानी का वातावरण सही नहीं है। बच्चे का बच्चेदानी में फ़ूड सही नहीं है, तो ये एक संकेत होता है बॉडी का। अगर ऐसा होता है तो ब्लीडिंग हो सकता है।

ये हो गए बच्चेदानी के अंदर की प्रॉब्लम की बाते,और इससे भी बहुत घातक लक्षण होता है वो ये है।

3. ectopic pregnancy Why bleeding during pregnancy

यह pregnancy जानलेवा हो सकता है। जब बच्चा बच्चेदानी में ना होकर कही और है, यानी की टूब में है या ओब्रेन में है।तो फिरआपको इस दौरान हल्की सी ब्लीडिंग बच्चेदानी के अंदर से हो सकती है। ये एक संकेत होता है, की बच्चा सही जगह पर नहीं है। तो आपके लिए सोनोग्राफी जरुरी हो जाती है।

4. हार्मोनल प्रॉब्लम Why bleeding during pregnancy

बच्चा जब पेट के अंदर पलता है, तो बच्चेदानी के अंदर जो पोषण मिलता है, जिससे बच्चा डवलप होता है। ये सब हार्मोनल परिवर्तन होते है। महिला के अंदर pregnancy के दौरान ह्यूमन कार्योनिक जिसे हम इन्सुलिन हार्मोन बोलते है, अगर इन हार्मोनल की कुछ कमी है या हाइड्रोजन बढ़ जाता है। किसी भी तरह का हार्मोनल इंसुलिन बढ़ा हुआ है या फिर कमी है। कोई भी हार्मोन बैलेंस में नहीं है तो आपका बच्चा खराब हो सकता है। और ऐसे में ब्लीडिंग हो सकती है। ऐसे में डॉक्टर से सलाह जरूर ले।

2nd ट्रिमस्टर यानी की 4 से 6 महीने का समय

1. जब 1st ट्रिमस्टर खत्म होता है, उस समय बच्चेदानी के अंदर बच्चा बड़ा होते – होते चारो तरफ फेल जाता है। बच्चा पूरा बच्चेदानी की दीवार से चिपक जाता है। उस समय थोड़ी से ब्लीडिंग हो सकती है। उसको कहते है एमनीओटिक सैक ब्लीडिंग। जो की 12 weeks के अंदर होती है। ये बहुत की नार्मल होता है। और 1 से 2 दिन में होकर बंद हो जाती है।

2. फ़िब्रोइद्स

फ़िब्रोइद्स यानी की बच्चेदानी के अंदर जो एटमस्फेर है, वो बढ़ जाता है। और इससे हल्की सी ब्लीडिंग हो सकती है। पर घबराने की जरुरत नहीं है, ये 1 से 2 दिन होकर अपने आप बंद हो जाती है।

3. सर्वाइकल इंकपेटेंस

इस दौरान जो बच्चेदानी का मुँह है, जिसे सर्विक्स कहते है। यह 2nd तिमाही में ब्लीडिंग करता है। इस ब्लीडिंग के कारण आपका बच्चा भी गिर सकता है।

4. 2nd तिमाही में कुछ ऐसे कॉज होते है जो की नार्मल पहली ट्रिमस्टर में नहीं होते है। पहली तिमाही में कुछ ऐसे कॉसेस होते है,जैसे की ब्लीडिंग का ज्यादा होना। जो किसी के समझ में नहीं आते है, जैसी की हार्मोनल चेंज। अगर हार्मोनल चेंज से एबॉर्शन होना है, तो पहले तिमाही में हो जायेगा। 2nd तिमाही में नहीं होगा।

5. सर्वाइकल म्यूकस

2nd तिमाही में कभी – कभी बच्चेदानी के मुँह पे जो म्यूकस प्लग बनता है, वह कभी – कभी अपने जगह से हिल जाता है। और कभी – कभी सेक्सुल एक्टिविट्स करने से यानी की pregnancy में सेक्स करने से म्यूकस प्लग हिल जाता है, जिससे थोड़ी सी ब्लीडिंग हो सकती है।

Related post :- 1.जल्दी प्रेग्नेंट होने का आसान तरीका
2. गर्भावस्ता में थाइरोइड का कारण जानीये
3. गर्भावस्ता के 12 लक्षण हिंदी में
4. 25 tips to increase sperm count
5. how to get pregnancy fast
6. अगर आप pregnant हे तो इन बातो का रखे ख़ास ख्याल
7.Pregnancy tips Hindi (अगर प्रेगनेंट हो तो इन बातो का रखे ख़याल )
8. pregnancy के 1 से 9 महीने में बच्चा कैसे बनता है pregnancy week by week
9. 10 amazing Benefits Of Coconut Water During Pregnancy
10.घर पर नमक से प्रेगनेंसी टेस्ट कैसे करे
11.16 Symptoms for Baby Boy During Pregnancy (Myths vs Facts in Hindi )

3nd ट्रिमस्टर यानी की 7 से 9 महीने का समय

यह बहुत ज्यादा खतरानक समय होता है। आप इसे तीन भाग में बाँट सकते है।

1.या तो बच्चेदानी के अंदर कोई गांठ है, जो की शुरू से तंग कर रही हो, और तीसरी तिमाही में आने के बाद गाँठ और बढ़ गयी हो तो उस वजह से ब्लीडिंग हो रही है, तो यह बहुत खतरनाक है। ऐसा कोई चीज नहीं है, जो एकदम से पता चले। आपको पहली तिमाही से पता होता है की गांठ है, और ये ब्लीडिंग कर रही है।

2.प्लेसेंटा Why bleeding during pregnancy

आवल की वजह से ब्लीडिंग होना एक आम बात है। आवल जो की शुरू में तीन महीने पर बनती है, तब वो पूरी चारो तरफ रहती है। फिर वो धीरे – धीरे सिकुड़ के एक तरफ पहुंच जाती है। आमतौर पर आवल का पोजीशन या तो बच्चेदानी के ऊपर वाली हिस्से में, जिसे फंड्स बोलते है। या फिर आगे वाली पे या पीछे वाली दीवार पर होती है। पर वो निचे वाली सेगमेंट में नहीं आती है। अगर वो निचे वाले सेगमेंट में रहती है, तो उसे बच्चेदानी के निचे वाले हिस्से में है। यानी की पूरी तरह से जो बच्चेदानी का रास्ता है, उसे कवर कर रही है, तो वो बहुत खतरनाक होता है।

क्योकि उसने पूरा रास्ता बंद किया हुआ है। जहाँ से बच्चा निकलने वाला है। इस तरह से होने वाली ब्लीडिंग पर बिमारी होती है। और इस दौरान बिना दर्द के आपको एक दम से तेज ब्लेडिंग चालू होगी। और ऎसे कैस में इमरजेंसी ऑप्रेशन करने की जरूरत हो सकती है।

3.अब्रप्श प्लेसेंटा Why bleeding during pregnancy

आपके बच्चेदानी के जो आवल है, उसके और बच्चेदानी के बीच में जो दुरी है। वह पर कुछ ब्लड जमा हो गया है। अब कितना ब्लड जमा हुआ है, उस ब्लड के जमा होने की वजह से जब बच्चेदानी टाइट हो जाती है। और बच्चे को जो ब्लड मिल रहा है, वो बच्चे के लिए बहुत ज्यादा खतरा हो जाता है। इस कंडीसन में फ़ौरन डेलिवेरी की जरूरत हो सकती है।

4. प्रीटर्म लेबर Why bleeding during pregnancy

तीसरे तरह की ब्लीडिंग जो है, प्रीटर्म लेबर यानी की बच्चेदानी का मुँह टाइम से पहले खुलना शुरू हो गया। 37 वीक पर हम कम्प्लीट प्रेगनेंसी मानते है। उससे पहले बच्चेदानी का मुँह खुलना शुरू हो जाता है, उसे कहते है नार्मल लेबर। इस दौरान बच्चेदानी का मुँह खुलता है तो ब्लीडिंग हो सकती है।

READ ALSO 1.Best sex position to get pregnant fast
2..प्रेग्नेन्सी के शुरुआती 10 लक्षण 1 or 2 weeks
3. pregnancy in 2 months ( लक्षण, विकास और शारीरिक बदलाव )
4. Best Sleeping Position During Pregnancy
5.1 Months of pregnancy के 16 प्रारम्भिक लक्षण
6. 30 फ़ूड जो प्रेगनेंसी में नहीं खाना चाहिए
7. pregnancy के दौरान ये 15 गलतियां जो आपको भारी पड़ सकती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *